• No products in the cart.

रस (Sentiments)

रस का शाब्दिक अर्थ है ‘आनंद’ । काव्य को पढ़ने या सुनने से जिस आनंद की अनुभूति होती है, उसे ‘रस’ कहा जाता है। काव्यप्रकाश के रचयिता मम्मटभट्ट ने कहा है कि आलम्बनविभाव से उदबुद्ध, उद्यीप्त, व्यभिचारी भावों से परिपुष्ट तथा अनुभाव द्वारा व्यक्त हृदय का ‘स्थायी भाव’ ही रस-दशा को प्राप्त होता है। पाठक या श्रोता के हृदय में स्थित स्थायी भाव ही विभावादि से संयुक्त होकर रस रूप में परिणित हो जाता है। रस को ‘काव्य की आत्मा/ प्राण तत्व’ माना जाता है।
GyanTemple.com © Dharshi Technologies Pvt. Ltd.. All rights reserved.